रात में अच्छी नींद पाने के 12 तरीके

हर सुबह एक खास समय पर उठना:

प्रतिदिन एक खास समय पर उठना, आपके जीवन में अनुशासन को दर्शाता है। यह सूचक है कि आप लक्ष्य को पाना चाहते है और उसकी ओर बढ़ रहे है। सदा इसका पालन करते रहने से आपकी असंतुलित नींद और जीवन शैली दोनों पटरी पर लौट आती है। ऐसा करने से पेट संबंधी कई समस्याएँ दूर हो जाती हैं। इसका सबसे ज्यादा प्रभाव रात की नींद पर पड़ता है। इस नियम का अनुसरण करने से आप फिर से समय पर सोने लगेंगे।       

उठने के बाद किसी खुली जगह पर जाकर कुछ वक्त बिताना:

कोशिश करें कि आप सुबह के उगते हुए सूरज को देख पाए। इस दौरान ब्रह्मांडीय शक्ति आकाशगंगा से होकर, प्रतिदिन हमारे ऊपर भारी मात्रा में बरसती है। सुबह के वक्त इन शक्तियों का सबसे ज्यादा प्रभाव होता है। जो आपके शरीर को स्वस्थ और ऊर्जावान रखने के लिए काफी है। आपको हर रोज सुबह उठकर इन शक्तियों का कम से कम पांच मिनट तक तो सेवन अवश्य ही करना चाहिए।

व्यायाम करना:

व्यायाम करते रहना बहुत जरूरी है। हम समय नहीं निकाल पाते यह परेशानी हम सब के साथ है। पर यहाँ समस्या समय नहीं बल्कि आलस है। इसलिए आपको अपनी शुरूआत “काईजे़न” तकनीक से कर देनी चाहिए। इसके अंतर्गत आपको निरंतर एक खास समय पर किसी भी पसंद के कार्य को एक मिनट तक करना होता है। अगर आपने वह समय सुबह के 7:30 बजे का चुना है, तो आपको हर रोज उस खास समय पर बस एक मिनट के लिए अपने पसंदीदा कार्य को करना होगा। जिससे आपका आलस्य दूर हो जाएगा और आप अपने अंदर बदलाव महसूस करने लगेंगे। हम यहाँ व्यायाम की बात कर रहे है, तो आप अपने काईजे़न तकनीक में व्यायाम को शामिल करे और उसे एक मिनट तक प्रतिदिन करें।

अपने बिछावन, गद्दे और तकिये को हमेशा साफ रखना:

जिससे आपकी नींद बेहतर होगी और आपको बुरे सपने भी नहीं आएँगे।

दिन के वक्त 20 मिनट से ज्यादा नहीं सोना:

किसी भी शांत माहौल में आप बीस मिनट तक विश्राम कर अपनी खोई हुई ऊर्जा प्राप्त कर सकते है और इससे आपकी रात की नींद भी बची रहेगी।

सोने से घंटे भर पहले घर की रोशनी कम कर देना:

घर को सोने के माहौल के अंतर्गत ढाल लेना जरुरी है। ऐसा लगातार करते रहने से आप अच्छी नींद पा सकते है।

रात में कम भोजन करने की आदत डालना:

वैसे तो रात के वक्त हमें कभी खाली पेट नहीं सोना चाहिए, फिर भी हमारा कुछ जरूरी बातों पर ध्यान देना आवश्यक है। जैसे कि हमें रात का भोजन, सोने से दो घंटे पूर्व कर लेना चाहिए और वह भी कम मात्रा में। चूंकि रात में हम अपने शरीर से कम मेहनत करते है, इसलिए हमारा कम भोजन करना ही सही है। इससे हमारा पाचन-तंत्र मजबूत बना रहता है और हमें पेट संबंधी कोई समस्या भी नहीं होती।

कैफ़ीन का सेवन न करना:

वैसे तो कैफ़ीन का सेवन कई मायनों में फ़ायदेमंद है, मगर जब कभी हम इसका सेवन रात में करते हैं, तो यह हमारी नींद पर गहरा असर डाल सकता है। यह हमें जगाए रखता है और हमेशा इसका सेवन करते रहने से यह हमारी नींद का संतुलन बुरी तरह से बिगाड़ सकता है और हम अनिद्रा से ग्रस्त रोगी भी बन सकते है।

रात के दिनचर्या का होना:

रात के दिनचर्या का होना हमारे लिए अति आवश्यक है। इसमें आप खुद को सोने के लिए तैयार करते है। ब्रश करने, अपने पैरों और हाथों को अच्छी तरह से साफ करने या फिर हल्का स्नान करने, साफ और हल्के कपड़े पहनने जैसे कामों को आप अपने दिनचर्या में शामिल करके बेहतर नींद पा सकते है।

अंधेरे कमरे में सोना:

इससे हमारे मस्तिष्क और उसमें उठने वाले विचार शांत हो जाते है। इसलिए हमें हमेशा अंधेरे कमरे में ही सोना चाहिए। इसकी आदत डाल लेने से हम अपनी नींद और गहरी और सुकून भरी बना सकते हैं।

साफ और हल्के कपड़े पहनकर सोना:

हमें साफ, हल्के और ढीले कपड़े पहनकर ही सोना चाहिए। यह हमारी नींद के लिए अच्छा होता है।    

प्रतिदिन एक ही निश्चित समय पर सोने जाना:

एक बार इस आदत को विकसित कर लेने से ना सिर्फ आपकी नींद पक्की हो जाती है बल्कि आप तनाव, मानसिक असंतुलन, बेवजह के थकान से भी मुक्त हो जाते है।

निष्कर्ष:

इन छोटी-छोटी आदतों को अपने व्यवहार में शामिल कर आप कुछ ही महीनों में पुनः अच्छी प्राकृतिक नींद प्राप्त कर सकते है।

***

Ritu Raj

मेरा नाम ॠतु राज है और मैं आपका Magical Hindi Stories में स्वागत करता हूँ। मेरी कोशिश आप सभी पाठकों तक ऐसी नई और रोचक हिंदी कहानियाँ पहुँचाने की है, जिन्हें आप अवश्य पढ़ना चाहेंगे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: