4. आयामों की रेखा और नौ दुनिया

नेमो हमें उस कमरे में ले गई जो पूरी तरह से खाली था। मैं यहाँ पहले भी आ चुका था। यह वही कमरा था जिसमें दो त्रिकोण खिड़कियाँ थीं। बाहर घना अंधेरा था और धुंध की वजह से सामने नजर आने वाला जंगल और भी भयानक दिख रहा था। नेमो उस कमरे के बीचों-बीच जाकर खड़ी हो गई और उसने कहा ‘आप सभी बैठ जाइए।’

हमलोग चुपचाप बैठ गए।

नेमो ने आगे कहा ‘अब क्योंकि आप सभी इस आयाम के स्थाई सदस्य बन चुके हैं, इसलिए मिस माँरफीन चाहती हैं कि मैं आप सभी को वह सब कुछ बता दूँ, जो आपको जानना चाहिए।’

मेरा बेटा कौशल, शोभा की गोद में सो रहा था। उसके अलावा सभी सांसे थामे बैठे हुए थें। और फिर नेमो ने अपनी सुरीली आवाज़ में बोलना शुरू किया-

‘आपलोग आयामों के बारे में अवश्य जानते होंगे?’ नेमो ने संदेहजनक तरीके से कहा। ‘फिर भी मैं बता दूँ कि यह एक ऐसा रास्ता है, जिसका इस्तेमाल करके हम एक जगह से दूसरी जगह या फिर एक दुनिया से दूसरी दुनिया में जा सकते हैं और वह भी बहुत कम समय में। आप सब भी यहाँ उसी आयाम के ज़रिये इस दुनिया में आए हैं।’

‘पर यह कौन सी दुनिया है? क्या हम विंडविज में हैं?’ मैंने पूछा। यह प्रश्न मुझे काफी समय से तंग कर रहा था।

‘आप सभी इस वक्त छठे आयाम में हैं। यह दुनिया ओवेनडोर के नाम से जानी जाती है। यह भूत-प्रेतों और मनुष्यों की दुनिया है। मिस स्काइ और मिस माँरफीन यहाँ दूसरी दुनिया से आए हैं। विंडविज से। मिस स्काइ यहाँ रहती हैं क्योंकि यह उनकी ज़िम्मेदारी है कि वह अलग-अलग आयामों से मृत लोगों की आत्माओं को लेकर सुरक्षित ओवेनडोर में पहुँचाए। आत्माओं के लिए यह दुनिया किसी प्रतीक्षालय जैसा है। यहाँ आकर उन्हें इंतजार करना पड़ता है, ताकि समय आने पर उन्हें मुक्ति मिल सके और वे दोबारा जन्म ले सके या फिर मोक्ष प्राप्त कर सके। मगर यह आत्माओं पर निर्भर करता है कि वे पुनः जन्म लेना चाहते हैं या नहीं। मोक्ष सभी को प्राप्त नहीं होता। यहाँ आकर आत्माओं ने वह सब कुछ सीख लिया है, जो मनुष्य जीवित रहकर करना जानते है। यहाँ तक कि उन्होंने खुद को भोजन करने और अलग-अलग तरह के स्वाद चखने के भी काबिल बना लिया है। ऐसे में भला कौन फिर से जन्म लेकर तमाम मुश्किलों का सामना करना चाहेगा, जो मनुष्यों को जिंदा रहकर करनी पड़ती हैं। ऐसी आत्माओं को भूत या प्रेत कहा जाता है। जैसे की रेडनोज, कैथी और अब उन प्रेतों की सूची में तुम भी शामिल हो गए हो।’ वह मुझे देखकर बोली।

‘सच पूछो तो मुझे भूत-प्रेत जैसे नामों से कोई आपत्ति नहीं थी, मगर रेडनोज और कैथी को यह बात अच्छी नहीं लगी। मैं उनके हाव-भाव को देखकर समझ गया था।’

खैर नेमो ने आगे कहा-

‘अब आप ओवेनडोर और विंडविज के बारे में जान चुके हैं। बचे हुए सात आयामों के बारे में भी, मैं अब आपलोगों को बताने जा रही हूँ। सबसे पहले हम पृथ्वी की बात करते हैं। आपको ऐसा लगता होगा कि इसके बारे में तो ज्यादा जानने की जरूरत नहीं है। क्योंकि उस ग्रह पर आपलोग रहा करते थें। परंतु आप सभी इस बात से अनभिज्ञ हैं कि पृथ्वी से ही सभी नौ आयामों की शुरूआत होती है। वहाँ से आप आयामों पर नियंत्रण हासिल कर सकते हैं। अगर पृथ्वी ग्रह से आयामों को नष्ट कर दिया जाए, तो सभी आयाम अपने आप नष्ट हो जाएंगे। और तब दूसरी दुनिया में कभी कोई नहीं जा पाएगा। फलतः यह सभी झगड़ों का कारण बन गया है। दूसरी दुनिया में रहने वाले ताक़तवर लोग, किसी भी तरह इस ग्रह पर अपना अधिकार जमाना चाहते हैं। ताकि वे दूसरी दुनिया में जाने वाले रास्तों पर नियंत्रण हासिल कर सके और उसका इस्तेमाल अपने मन मुताबिक कर सके।’

‘मन मुताबिक इस्तेमाल करने से तुम्हारा क्या मतलब है?’ बैनी सारस ने पूछा।

‘अगर आपका नियंत्रण आयामों पर हो जाए, तब आप उसकी महत्ता समझ जाएंगी। ऐसे में आप अपनी जरूरत के हिसाब से, खास तौर पर किसी भी संकट के घड़ी में उन रास्तों को खोल या बंद कर सकती है। कल्पना कीजिए कि अलग-अलग दुनियाओं के बीच एक भयंकर युद्ध छिड़ जाए, तब जिसका भी उन रास्तों पर अधिकार होगा वह हमेशा अपने दुश्मनों से एक कदम आगे रहेगा। वह गुप्त तरीकों से यहाँ वहाँ जा सकेगा, आयामों की दिशा भी बदल सकेगा और अपनी मर्जी से दुश्मनों को उन रास्तों का इस्तेमाल करने से रोक पाएगा। फिर युद्ध में कौन जीतेगा, यह बात मुझे बताने की आवश्यकता नहीं है। वैसे भी हम सभी शीतयुद्ध से तो पहले ही जूझ रहे हैं। न जाने कब कौन आगे बढ़े और युद्ध शुरू कर दे।’

एक पल के विराम के बाद नेमो ने फिर से बोलना शुरू किया- ‘पृथ्वी से आयाम का पहला रास्ता वुडलैंड में जाकर खुलता है। यह पेड़-पौधों, जानवरों और पशु-पक्षियों की दुनिया है। कुछ लोगों का मानना है कि वहाँ बौनों की भी जाति रहती है। मगर आज-तक किसी ने भी उन्हें नहीं देखा। किस्से-कहानियों में कहा जाता है कि वे बेहद भद्दे नजर आते हैं। परंतु हर कहानियों में उनकी चालाकी और अक़्लमंदी का ज़िक्र अवश्य होता है और यह भी कि वे पेड़-पौधों और पशु-पक्षियों से बातें कर सकते है।’

‘इसके बाद हम डर्कलैंड की ओर बढ़ते हैं। यहाँ सूरज दो-चार घंटो के लिए ही आसमान में नजर आता है। इसके बाद यहाँ सब कुछ अंधेरे में समा जाता है। और तब यहाँ रहने वाले पिशाच बाहर आते हैं। जी हाँ आपलोग सही सोच रहे हैं, यह पिशाचों की दुनिया है। वे बेहद ताक़तवर, धनी और अक्लमंद होते हैं। कोई भी पिशाच तब-तक जीता है, जब-तक कि उसे मारा नहीं जाए और उन्हें मारना बच्चों का खेल नहीं है। अगर पृथ्वी पर किसी दुनिया का सबसे ज्यादा प्रभाव है, तो वह है डार्कलैंड। वहाँ के राजा का नाम ड्रेथीनस है। पृथ्वी पर तुमलोग उसे अलग नाम से बुलाते थे। और उसे काल्पनिक मानते थे। मगर पिशाच होते है और यह कोई कल्पना नहीं है। डार्कलैंड का राजा ड्रेथीनस इस वक्त पृथ्वी से व्यापार और विज्ञान के जरिये जुड़ा है। उसके लोग गुमनाम तरीके से पृथ्वी पर काम कर रहे हैं और तुम्हारी दुनिया को प्रगति के अलग-अलग मुकामों तक पहुँचा रहे हैं। मगर यह तो बस बाहरी दिखावा है। अब वे वहाँ के राजनीतिक गतिविधियों में भी दखल देने लगे हैं और ऊँचे ओहदों पर जा बैठे हैं। जिससे उनकी पकड़ आयामों और उसकी रेखाओं पर मजबूत होता जा रहा है।’

यह सुनकर मुझे सहसा जूना वारिच का ख्याल आ गया। उसने भी ऐसी ही बातें की थी। एक पल के लिए मुझे लगा कि वह उस दिन पृथ्वी के हित में बात कर रही थी। मगर उसका तरीका गलत था और संभव है कि उसका इरादा भी गलत हो। इसी बीच नेमो ने आगे कहा-

‘फिर आता है नोड्रिल। जिसे अब डेथलैंड के नाम से जाना जाता है। अब इस दुनिया में कोई भी नहीं रहता। कई सौ सालों पहले गौड्रिलों ने यहाँ आतंक मचाकर, इस ग्रह से सब कुछ समाप्त कर दिया था। उसके बाद डार्कलैंड के पिशाचों, पाँचवें और छठे आयाम में मौजूद दुनिया, विंडविज और ओवेनडोर ने मिलकर गौड्रिलों से युद्ध किया और उन्हें हमेशा-हमेशा के लिए सातवें आयाम में कैद कर दिया। यह दुनिया गौड्रियन के नाम से जानी जाती है। दरअसल यह गौड्रिलों की ही दुनिया थी, मगर उन्होंने अपनी ही दुनिया को महज सौ सालों के भीतर नष्ट कर डाला।’ फिर नेमो नाटकिय अंदाज में बोली – ‘वे प्राण खाते हैं। जीवित चीजें ही गौड्रिलों का भोजन है।’

‘अब हम आठवें आयाम की बात कर लें। वेनस, इसी नाम से जानी जाती है यह दुनिया। उस दुनिया में एक ही प्राणी रहता है, जो गौड्रिलों से भी ज्यादा ताक़तवर और खूंखार है। पिशाच भी उसके सामने टिक नहीं सकते। और पिशाचों के अलावा उसे किसी ने देखा भी नहीं है। कहते हैं कि उसका सिर एक शेर का है और शरीर इंसान का। उसका नाम डीमन है और वह आठवें आयाम पर पहरा देता है। ताकि कोई भी उससे आगे न जा सके। उसे दूसरी दुनिया और उसके लोगों से कोई मतलब नहीं। वह तो बस नौवें आयाम की सुरक्षा करता है। ऐसी एक कहानी है कि कई सौ सालों पहले डार्कलैंड के राजा ने दस हजार सैनिकों के बल पर नौवें आयाम में दाखिल होने की कोशिश की थी। मगर डीमन ने अकेले ही उन दस हजार सैनिकों को मार डाला और उनके सिर को धर से अलग करके पेड़ो से लटका दिया। फिर वह कई दिनों तक मृत पिशाचों के शरीर को खाता रहा। यह कह पाना मुश्किल है कि आखिर डीमन हमलोगों से नौवें आयाम की सुरक्षा कर रहा है या फिर नौवें आयाम से हमारी सुरक्षा कर रहा है।’

नेमो की बातें खत्म हो चुकी थी। उसने हमें नौ दुनियाओं के बारे में सब कुछ बता दिया था। और अब हम भी जान गए थें कि हम कहाँ थें। उस वक्त रात के दो तो अवश्य ही बज रहे होंगे, जब सभी ने एक दूसरे को शुभ रात्रि कहा और अपने-अपने कमरे में चले गए। रेडनोज और कैथी ने मुझसे फिर मिलने का वादा किया और वहाँ से गायब हो गए। अंत में मैंने शोभा को शुभ रात्रि कहा और कौशल के माथे को चूमकर उन्हें सोने के लिए भेज दिया।

मगर मेरे लिए यह रात लंबी होने वाली थी। मेरी आँखों से नींद गायब हो चुकी थी और सुलाने को ढेरों यादें जगी थीं।

***

Ritu Raj

मेरा नाम ॠतु राज है और मैं आपका Magical Hindi Stories में स्वागत करता हूँ। मेरी कोशिश आप सभी पाठकों तक ऐसी नई और रोचक हिंदी कहानियाँ पहुँचाने की है, जिन्हें आप अवश्य पढ़ना चाहेंगे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: