ग्रीन-टी पीना क्यों है सेहत के लिए फायदेमंद

ग्रीन-टी का इतिहास:

चीन के Lu Yu ने 600-900 AD के बीच में एक किताब लिखी थी। उस किताब में ग्रीन-टी का जिक्र मिलता है। उस वक्त भी इसे औषधि के रूप में दर्शाया गया था। बाद में मंगोल साम्राज्य ने इसका इस्तेमाल चाय के रूप में करना शुरू कर दिया।

ग्रीन-टी कैमेलिया साइनेसिस के पत्तों से बनती है। यह स्वास्थ के लिए फायदेमंद होता है।

कैमेलिया साइनेसिस के फायदे:

पोलीफेनोल: इससे ग्रीन-टी में प्रकृतिक तरीके से ऐन्टीआक्सिडन्ट बन जाता है। जो स्वाद के साथ हमारे स्वास्थ के लिए भी लाभकारी होता है।

एसेंशियल ऑयल: इससे ग्रीन-टी में स्वाद और खुशबू शामिल होती है।

फ्य्तोनुट्रिएंट्स: इसकी वजह से ग्रीन-टी में थोड़ी मात्रा में विटामिन, मिनरल्स और एमिनो एसिड शामिल हो जाता है। साथ ही साथ इसमें L-theanine भी होता है। यह एक दुर्लभ मोलेक्यूल है, जो कैमेलिया साइनेसिस में पाया जाता है।

इसके अलावा इसमें Enzymes और Methylxanthines भी होता है। यह पाँचो हमारे शरीर के भीतर जाकर अलग-अलग तरह से काम करते है। और इन्हीं के बदौलत ग्रीन-टी हमारे लिए बेहद लाभकारी बन जाता है।

ग्रीन-टी के फायदे:

ग्रीन-टी बालों के लिए लाभकारी होता है।

ग्रीन-टी त्वचा के लिए अमृत है।

ग्रीन-टी वजन घटाने में भी काम आता है।

यह हृदय रोगों से बचाव करता है।

कैंसर होने की संभावना को कम कर देता है।

ग्रीन-टी कोलेस्ट्रॉल घटाता है।

[नोट: ग्रीन-टी के और फ़ायदों के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ क्लिक करें।]

ग्रीन-टी से होने वाले नुकसान

जैसा ग्रीन-टी के बारे में कहा गया है कि इसे दिन भर में दो या तीन कप से ज्यादा न पिये, अन्यथा यह हमारे शरीर को नुकसान पहुँचा सकता है। खाली पेट इस चाय का भूल से भी सेवन न करें। इसे पीने का सही तरीका दिन या रात के भोजन से एक घंटा पहले या फिर एक घंटा बाद का होता है। देर रात इसका सेवन न ही करें तो अच्छा है। क्योंकि यह आपके नींद को प्रभावित कर सकता है।

ग्रीन-टी का ज्यादा सेवन करने से सिरदर्द, घबराहट, चक्कर आने की समस्या हो सकती है। ऐसा इसमें मौजूद कैफीन की वजह से होता है।

ध्यान रखे कि ग्रीन-टी एक औषधि है और हमें इसका सेवन तय किये गए तरीके से ही करना चाहिए।

***

Ritu Raj

मेरा नाम ॠतु राज है और मैं आपका Magical Hindi Stories में स्वागत करता हूँ। मेरी कोशिश आप सभी पाठकों तक ऐसी नई और रोचक हिंदी कहानियाँ पहुँचाने की है, जिन्हें आप अवश्य पढ़ना चाहेंगे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: