5. गौड्रिल का लौटना

उस वक्त रात के तकरीबन दो बज रहे होंगे, जब नेमो भयानक तरीके से चिल्लाई। मैं सोया नहीं था। इसलिए मैं सबसे पहले तहखाने की छत के बीच से होते हुए उसके पास पहुँचा।

‘क्या बात है, तुम चिल्लाई क्यों?’ मैंने पूछा।

‘मिस्टर बर्गर बेस्ट का संदेश आया था, आरकेजियस डॉट को एक भयानक प्रेत ने बंदी बना लिया है। कहता है कि वह मिस्टर डॉट की मृत्यु के बाद ही उन्हें आज़ाद करेगा।’ नेमो दहशत में आकर बोली।

‘बंदी बना लिया है से तुम्हारा क्या मतलब है?’ मैंने पूछा।

‘मतलब है कि मिस्टर डॉट पर प्रेत का साया है।’ मिस माँरफीन ने कहा। जो उसी वक्त वहाँ आई थीं। ‘चलने की तैयारी करो।’ उन्होंने नेमो को कहा।

बस पल भर में ही नेमो एक बस्ता ले आई और मिस माँरफीन के हाथों में थमाते हुए कहा ‘यह सब कुछ मुश्किल होने वाला है।’

‘मैं जानती हूँ, पर आज मदद करने के लिए हमारे साथ भावेश भी रहेगा।’ मिस माँरफीन थोड़ा उत्साहित होकर बोली।

‘क्या मैं आपलोगों के साथ चल सकता हूँ।’ मैं भी उत्साहित पर हैरान होकर बोला।

‘अगर तुम यहीं रुके रहोगे, फिर कैसे चलोगे!’ मिस माँरफीन बोली।

मैं मिस माँरफीन और नेमो के पीछे-पीछे घर से बाहर आया। एक पल के लिए मैंने सोचा कि भला नेमो किस तरह से मिस माँरफीन की मदद करती होगी। खैर जादुई दुनिया में तो सब कुछ संभव है। मैं पहली बार घर से बाहर निकला था और उस गोल घेरे के भी जो घर के चारों ओर मिस स्काइ द्वारा खींची गई थी।

हम अंधेरे जंगलों को पार करते हुए एक छोटे से शहर में आ पहुँचे। बारिश भी शुरू हो चुकी थी। वह शहर बहुत पुराना दिखता था और लकड़ी के घरों से काफी सुंदर नजर आ रहा था। मगर सड़को पर लोग कहीं भी नजर नहीं आ रहे थें। मैं नहीं समझता इसकी वजह बारिश थी। जी नहीं हरगिज़ नहीं। बल्कि मेरे अनुमान से तो यह खाली सड़क उसी प्रेत की मौजूदगी का प्रमाण हो सकता था, जिसकी वजह से हम इस शहर में थे। उस वीरान सड़क से होते हुए हम एक अंधेरी गली में मुड़े। दूर-दूर तक रोशनी का निशान न था और वहीं किसी घर में से किसी इंसान की भयानक आवाज़ें आ रही थीं। मुझे समझ में आ गया था कि हम अपनी मंज़िल पर आ पहुँचे थें। नेमो ने जैसे ही आग जलाई, वैसे ही भयानक गर्जना हुई और एक तेज हवा का झोंका आया और नेमो को बुझा दिया। नेमो ने वापिस खुद को जलाया और इस बार उसने आग की लपटों के पास शिशा चढ़ा लिया। क्योंकि उसी पल दोबारा गर्जना हुई और फिर से तेज हवा का झोंका आया। पर इस बार नेमो की आग नहीं बुझी। खैर हम सभी इतना समझ गए थें कि वह प्रेत नहीं चाहता था कि हम वहाँ रोशनी करें।

जल्दी हम उस मकान के करीब आ पहुँचे जो हमारी मंज़िल थी। मिस माँरफीन ने दरवाज़ा खोला। और दरवाज़ा खोलते ही हमें बेहद गंदी बदबू का सामना करना पड़ा। जैसे-तैसे हम घर के भीतर दाखिल हुए। और फौरन ही हमारा प्रेत से सामना हो गया।

वह लंबा गलियारा नेमो की रोशनी से प्रकाशित था। मगर गलियारे के दूसरी ओर सबसे आखिरी छोर पर कुछ तो था। हमें उसकी दो चमकती आँखें नजर आ रही थी। इसके अलावा सब कुछ अंधकारमय था। फिर हलकी सी गुर्राहट हुई, जिससे मेरे रोंगटे खड़े हो गए।

‘अपना परिचय दो।’ मिस माँरफीन ने कहा।

उसी पल मिस्टर आरकेजियस डॉट का शरीर हवा में उड़ता हुआ आया और सीधा हमारे सामने आकर गिरा। खुशकिस्मती से वे मरे नहीं थे।

फिर पुनः गुर्राने की आवाज़ आई।

‘गौड्रिल।’ मिस माँरफीन बोली। और फिर एक ज़ोरदार प्रहार किया। उनकी छड़ी से एक तेज प्रकाश बाहर निकालकर आया और बिजली की गति से गलियारे के दूसरे छोर से जाकर टकराया और एक तेज प्रकाश हुआ।

हमने उस गौड्रिल का मुस्कुराता हुआ चेहरा देखा। तब मैंने अपने भीतर डर और गुस्से को महसूस किया। मैं जानता था कि वे कितने खतरनाक हो सकते हैं। पर आज उसका इरादा लड़ने का नहीं था। वह बोला ‘अब हम जानते हैं कि तुम सभी ओवेनडोर में छिपे हो। बहुत जल्दी मैं फिर से लौटूँगा और तब मैं अकेला नहीं होऊँगा। मेरी बात याद रखना। तुमने हमारा कुछ कीमती चुराया है, और अब लौटाने की बारी है।’ यह कहकर गौड्रिल वहाँ से गायब हो गया।

थोड़ी देर में मिस्टर बर्गर बेस्ट वहाँ आ पहुँचे। उन्होंने अपने सिपाहियों से मिस्टर डॉट को फौरन अस्पताल ले जाने को कहा। इस दौरान नेमो ने उन्हें सारी बातें बताई और जिसे सुनने के बाद मिस्टर बर्गर बेस्ट ने आपातकालीन बैठक बुलाने को कहा।

जारी है…

Ritu Raj

मेरा नाम ॠतु राज है और मैं आपका Magical Hindi Stories में स्वागत करता हूँ। मेरी कोशिश आप सभी पाठकों तक ऐसी नई और रोचक हिंदी कहानियाँ पहुँचाने की है, जिन्हें आप अवश्य पढ़ना चाहेंगे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: