आलसी मैना और सयाना कौआ

दूर जंगलों में एक आलसी मैना रहा करती थी। वह इतनी आलसी थी कि जब भी उसके झुंड को लंबे सफर पर जाना होता, तो वह थककर बीच में ही रूक जाती थी। जिसकी वजह से पूरे झुंड को रूकना पड़ जाता था। ‘मैं और न उड़ पाऊँगी। हम यहीं विश्राम कर लेते हैं।’ यह बोलकर वह मैना सफर के बीच में ही अपना डेरा डाल देता थी। एक बार उसकी इस आदत से परेशान होकर, झुंड के बाकी सदस्य उसे बीच में ही छोड़कर आगे बढ़ गए। वह मैना रोते-रोते एक पेड़ की डाल पर जा बैठी।

अगले दिन भी वह उसी पेड़ पर बैठे-बैठे उदास मन से अपने झुंड के लौट आने की प्रतीक्षा करती रही। जब कोई भी नहीं आया, तो वह जोर-जोर से रोने लगी। उसकी आवाज़ सुनकर उसी पेड़ पर बैठा एक कौआ उसके पास आया।

उसने कहा ‘क्या बात है मैना रानी, तुम रो क्यों रही हो?’

वह मैना रोते-रोते बोली ‘मैं तुम्हें क्या बताऊँ? मैं अपने झुंड से बिछड़ गई हूँ। क्योंकि मैं झुंड के बाकी सदस्यों की तरह तेजी से नहीं उड़ पाती और मुझमें इतनी शक्ति भी नहीं कि मैं अपने एक उड़ान में लंबा सफर तय कर सकूँ। इसलिए उन सभी ने मुझे अकेला छोड़ दिया है।

यह सुनकर वह सयाना कौआ मुस्कराया और बोला ‘पर यह जंगल विश्राम करने के लिए सही जगह नहीं है। यहाँ प्रतिदिन शिकारी पक्षी आते हैं और मासूम पक्षियों को पकड़कर मार डालते हैं और उन्हें अपना भोजन बना लेते हैं। तुम्हारा यहाँ ज्यादा देर तक रुके रहना जरा भी सुरक्षित नहीं है।

यह सुनकर मैना चिड़िया बेहद डर गई। उसने कौए से कहा ‘तो अब मैं क्या करूँ? मुझे तो यह भी ज्ञात नहीं कि मेरा झुंड कहाँ होगा?’

वह कौआ बोला ‘तुम मुझे यह बताओ कि तुम्हारे साथी किस दिशा में गए हैं?’

‘वे सभी उत्तर दिशा की ओर गए हैं।’ मैना चिड़िया ने कहा।

‘मैं जानता हूँ कि वे सभी इस वक्त कहाँ होंगे। मुझे थोड़ा समय दो, मैं अभी आता हूँ।’ यह बोलकर वह कौआ वहाँ से उड़ गया।

जब वह थोड़ी देर के बाद लौटा तो वह काफी घबराया हुआ लग रहा था। उसने मैना से कहा ‘जल्दी चलो मेरे पीछे शिकारी पक्षी पड़े हुए हैं। वे सभी इसी दिशा में आ रहे हैं। जितनी तेज उड़ सकते हो उड़ना और पीछे मुड़कर मत देखना।’

इसके बाद वे दोनों पक्षी अपनी जान बचाने के लिए पुरी ताकत से उत्तर दिशा की ओर उड़ने लगे। बीच में मैना की इच्छा पीछे मुड़कर शिकारी पक्षियों को देखने की हुई, मगर कौए ने उसे ऐसा करने से रोक दिया। उसने कहा कि ऐसा करने से उनकी रफ्तार धीमे पड़ जाएगी और शिकारी पक्षी उनके और करीब आ जाएंगे।

वे दोनों तब-तक पूरी ताकत से उड़ते रहे जब-तक कि वे दोनों उत्तर दिशा में स्थित उस जगह पर न आ पहुँचे, जहाँ उस मैना के झुंड के होने की संभावना थी। वहाँ और भी बहुत सी चिड़ियों का झुंड मौजूद था, मगर उस मैना को अपना झुंड कही भी नजर नहीं आया। जब उस मैना ने पीछे मुड़कर देखा तो उसे कोई शिकारी पक्षी भी नजर नहीं आया। तब उसने कौए से पूछा ‘यह सब क्या है? हमारे पीछे तो कोई शिकारी पक्षी नहीं है।’

तब वह कौआ मुस्कराया और बड़े ही प्यार से बोला ‘हमारे पीछे कभी कोई शिकारी पक्षी था ही नहीं। ये तो मैंने तुमसे झूठ कहा था। ताकि तुम पूरी ताकत से उड़ सको। और देखो तुम बिना थके उडे़ भी और अपने झुंड से पहले ही अपने लक्ष्य तक पहुँच भी गए। तुम्हारा झुंड अब-तक यहाँ नहीं पहुँचा है। वे सभी अवश्य कहीं विश्राम कर रहे होंगे। मगर तुमने तो दस दिन का सफर महज तीन दिन में पूरा कर लिया है। अब तो तुम्हें अपनी शक्तियों पर भरोसा हो गया ना। यह सब मैंने इसलिए किया, ताकि तुम अपनी क्षमता को पहचान सको। तुम जितना सोचते हो, तुम उससे भी कई गुना ज्यादा शक्तिशाली हो। और तुमने इस बात को अभी-अभी साबित भी किया है।’

यह सुनकर उस मैना को एहसास हुआ कि कौए ने बड़ी चालाकी से उसे उसकी ताकत से परिचित करवाया था। मैना की आँखों से आँसू छलक पड़े। उसने नम आँखों से कौए को धन्यवाद कहा और मंज़िल पर पहुँचकर अपने झुंड के आ जाने की प्रतीक्षा करने लगा।

निष्कर्ष

हम सभी के भीतर अपने निर्धारित लक्ष्य को पाने की बेशुमार शक्ति होती है। परंतु कई बार हम अपने आलस्य की वजह से या फिर अपने आप को कम आकने की वजह से उस शक्ति से वंचित रह जाते हैं। जिसकी वजह से हमें कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। कठिन समय इस कहानी में बताए गए शिकारी पक्षी जैसे होते हैं, जो हमें मात देकर नीचे गिरा देना चाहते हैं। अगर हम इस कठिन समय में अपना हौसला बनाए रखे और आलस्य को दूर हटाकर अपने काम में लगे रहें, तो हमें अवश्य अपनी मंज़िल प्राप्त हो जाएगी। यह कहानी हमें सीख देती है कि हमें मुश्किल समय को अपना शत्रु ना मानकर उसे एक मौके के रूप में लेना चाहिए। क्योंकि इसी दौरान हमें अपने असली शक्ति का ज्ञान होता है। बस जरूरत है तो उसे पहचानने की।

***  

Ritu Raj

मेरा नाम ॠतु राज है और मैं आपका Magical Hindi Stories में स्वागत करता हूँ। मेरी कोशिश आप सभी पाठकों तक ऐसी नई और रोचक हिंदी कहानियाँ पहुँचाने की है, जिन्हें आप अवश्य पढ़ना चाहेंगे।

You may also like...

2 Responses

  1. Anonymous says:

    अरे यार जूलियट वाली पूरी कहानी देदो

    • Ritu Raj says:

      बहुत जल्दी ही अगली कहानी आपके सामने होगी। आशा करता हूँ कि आपको मेरी कहानियाँ पसंद आ रही होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: