डार्क असैसन- रात का हत्यारा

Horror Story Hindi

डार्क असैसन- रात का हत्यारा। नीचे लिखा था, भूतिया कातिल जो हर कीमत पर अपने काम को पूरा करता है।

“बड़ी अजीब वेबसाइट है।” मैंने मन ही मन कहा और फिर एक और क्लिक और मैं डार्क वेब के उस वेबसाइट में प्रवेश कर चुका था। यह बस एक ही पल के लिए हुआ, जब मेरा वेब कैम अपने आप ऑन हुआ और मुझे अपने कंप्यूटर स्क्रीन के सामने किसी की परछाई नजर आई, फिर एक आँखें चौंधिया देने वाली रोशनी हुई, मानो वह किसी कैमरे से निकली हुई लाइट हो और फिर जैसे ही वह रोशनी खत्म हुई, मेरे कंप्यूटर स्क्रीन के सामने से वह अनजानी परछाई भी गायब हो चुकी थी और अब मेरे सामने एक फ़ॉर्म खुला हुआ था।

आम तौर पर किसी भी फ़ॉर्म में चेतावनी नीचे छोटे-छोटे अक्षरों में लिखी हुई होती है, मगर इस फ़ॉर्म में सबसे ऊपर बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा था “फ़ॉर्म भरने के बाद इसे किसी भी कीमत पर वापिस नहीं लिया जा सकता। हमारे लिए आपका लिखा हुआ ही पत्थर की लकीर है, जिसे आप ही नहीं हम भी नहीं मिटा सकते।”

मुझे अब भी यह सब झूठा लग रहा था। थोड़ा डर तो लग ही रहा था, मगर इसके साथ ही इतनी अनोखी वेबसाइट को देखकर थोड़ी उत्सुक भी था, जिससे मुझे मजा भी आ रहा था। वहाँ सब बातें इतनी गंभीरता से लिखी हुई थी कि मेरे दिमाग में यह ख्याल आ ही गया कि इस काम को करवाने के (और यहाँ काम करवाने से मेरा मतलब हत्या करवाने से था) ये लोग कितने पैसे लेते होंगे? और इसका भी जवाब मुझे उस फ़ॉर्म पर ही मिल गया। वहाँ एक जगह बिल्कुल छोटे अक्षरों में लिखा था कि “आपकी सेवा करने के बदले में हमें दो दिन के भीतर, आपसे आपका कुछ ऐसा चाहिए, जो आपका सबसे ज्यादा प्रिय हो। यह हम तय करेंगे कि आपकी वह प्रिय चीज क्या है।” इन शब्दों को पढ़कर मुझे भी एकबार यह सोचने पर मजबूर हो जाना पड़ा कि आखिर मेरी सबसे ज्यादा प्रिय चीज क्या हो सकती थी। फिर मुझे अपनी बिल्ली का ख्याल आया, जो मेरे लिए मेरी सबसे प्यारी साथी थी। उसका नाम मोमो है और मैं तो उसे खोने का सपना भी नहीं देख सकता हूँ। खैर, फिर मुझे अपने इस सोच पर थोड़ी हंसी भी आ गई। आखिर क्यों मैं एक जाली वेबसाइट की बातों को गंभीरता से ले रहा हूँ। मेरे पास करने को कुछ था नहीं, तो मैंने बीयर की एक बोतल खाली की और फिर उस फ़ॉर्म को भरने लगा। नाम, पता और मरवाने की तारीख को भरने के बाद मैंने भेजे बटन पर क्लिक किया और फिर एक और बीयर की बोतल खोलकर उसे भी डकार गया और फिर चैन से बिस्तर पर लेट गया। कुछ देर बाद मुझे एक जोर का झटका लगा और अचानक डर के मारे मेरे रोंगटे खड़े हो गए। दरअसल बात यह थी कि मैंने उस फ़ॉर्म पर अपना नाम डाल दिया था, पता भी मेरा था और दो दिन के बाद अपने मौत की तारीख भी तय कर दी थी। यह सब कुछ मुझसे नशे में हो गया था और अब जैसा कि उस फॉर्म में लिखा था कि मैं उस फ़ॉर्म को रद्द भी नहीं कर सकता था। एक पल के लिए तो मेरी चिंता इतनी बढ़ गई कि मेरे पसीने छूटने लगे। मगर फिर मुझे जल्दी ही एहसास हुआ कि मेरा चिंता करना व्यर्थ था। भला ऐसी भी कोई चीज होती है क्या? इस विचार से मुझे फौरन राहत मिल गई और मैं सो गया।

देखते-देखते दो दिन बीत भी गए और आज के दिन ही मेरी मृत्यु होने वाली है। पर सच बताऊँ तो मुझे डर नहीं लग रहा। असल में वह पूरी वेबसाइट जाली थी, तो भला मुझे उससे डर क्यों लगे। पूरे दिन ऑफ़िस में रहने के बाद मैं अभी-अभी घर पहुँचा हूँ। आज सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए हैं। पर बारिश नहीं हो रही। हवा भी नहीं चल रही, जिससे मौसम थोड़ा गर्म हो गया है। मुझे आशा है कि देर-सवेर ज़ोरदार बारिश अवश्य ही होगी। मगर टी.वी पर मौसम विभाग ने ऐसी कोई भविष्यवाणी नहीं की है। यह तो मेरा आकलन है और मुझे तो ऐसा ही लगता है कि आज बारिश जरूर होगी। इन विचारों को अपने मन में धारण किये हुए, मैं बारिश कि प्रतीक्षा करता रहा और खाना बनाने और उसे खाने के बाद बिस्तर पर लेट गया। मोमो भी मेरे बिस्तर के नीचे दुबकी हुई थी। पता नहीं आज मैं जब से ऑफ़िस से घर लौटा हूँ, वह तब से एक ही जगह पर दुबकी हुई थी। जैसे उसने कोई डरावनी चीज देख ली हो। फिर भी उसके चेहरे पर अजीब सा गुस्सा था। मानो वह कभी भी किसी भी पल लड़ना शुरू कर दे। अब मेरी आँखें बोझिल हो रही हैं। मुझे नींद आ रही है।

मुझे सोए हुए एक घंटा हो चुका है। मेरी थोड़ी सी आँख खुली और मुझे उसी पल ऐसा लगा कि कोई मेरे बिस्तर के सामने खड़े होकर मुझे घूर रहा है। मैंने झट से अपनी बंद आँखों को खोला। कोई भी तो नहीं है। मैं भी ना, जाने क्या-क्या सोच लेता हूँ। इससे पहले मैं फिर से अपनी आँखें बद करता, उसी पल मुझे अपने फ्रिज का दरवाज़ा खुला नजर आया। पर मैंने तो दरवाज़ा बंद किया था, फिर वह अपने आप कैसे खुल गया। मैं उठा और फ्रिज का दरवाज़ा बंद किया।

“ओ……..!”  मेरे मुँह से ज़ोरदार चीख निकल पड़ी। क्या अभी-अभी मैंने किसी प्रतिबिंब को फ्रिज के सामने लगे शीशे में खड़े देखा था। क्योंकि अब वह वहाँ नहीं है। पर मेरी आँखें धोखा नहीं खा सकती। शीशे में मुझे सचमें किसी का प्रतिबिंब नजर आया था। तभी किचेन में मुझे बर्तन गिरने की आवाज़ सुनाई दी। फिर कदमों की आहट सुनाई दी। मेरे घर में कोई घुस आया है। मोमो भी जोर-जोर से चिल्लाने लगी। मैंने पास ही पडे़ क्रिकेट के बैट को अपने हाथ में उठाया और डरते-डरते किचेन की तरफ बढ़ा। पर किचेन में तो कोई भी नहीं था। इसी बीच बारिश भी शुरू हो गई। मैंने फौरन अपने बैट को नीचे फेका और खिड़की बंद करने चल पड़ा। मैंने गौर किया कि मेरे हर एक कदम के साथ एक अजनबी आहट भी होती। कोई मेरे पीछे-पीछे चल रहा था और जैसे ही मैं पीछे मुड़ा कोई चीज मेरी नज़रों के सामने से ग़ायब होती हुई नजर आई। इस बार मुझे यकीन हो गया था कि कोई सचमें मेरे घर में घुस आया था। उसी पल मुझे डार्क असैसन वेबसाइट का ख्याल आया। मुझे एहसास हो गया था कि कोई मुझे मारने मेरे घर में घुस आया था। और वह जो कोई भी था, वह कोई जीवित प्राणी नहीं था। मेरा सामना किसी भूत से हुआ था। मुझे जैसे ही इस बात का एहसास हुआ कि तभी एक अदृश्य शक्ति मेरे सामने प्रकट हो गई। उसका खौफनाक हड्डियों वाला चेहरा मेरी इन्हीं नज़रों के सामने था। मैं तो डर के मारे अपनी जगह पर बुरी तरह से जम गया था। उसी समय मोमो बिस्तर के नीचे से बाहर आई जोर-जोर से चिल्लाने लगी। उसकी आवाज़ सुनकर उस खौफनाक प्राणी ने मेरे गर्दन को दबोच कर मुझे हवा में उठा दिया। मेरी सांसे थमते जा रही थीं।

‘मैंने गलती से उस फॉर्म पर अपना पता डाल दिया है, मुझे छोड़ दो।’ मैंने कहा।

‘अब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। मुझे अपना काम पूरा करना ही होगा।’ उस भूत ने कहा।

अगली चीज जो मुझे याद है, वह यह है कि मैंने अपनी छाती में बिजली जैसी करंट महसूस की और फिर भयानक दर्द हुआ। मुझे दिल का दौरा पड़ा था। मैं तड़पते हुए नीचे गिर पड़ा। फिर मैंने उस भूत को गायब होते देखा और उसी पल मेरी आँखें खुली।

मैं अभी-अभी एक भयानक सपना देखकर उठा था। मेरा दिल अब भी जोरों से धड़क रहा था। पर अभी मुझे एक झटका लगना बाकी था। जब मेरी नजर दीव‍ार पर गई, तब मुझे वहाँ अपना एक फोटो टँगा दिखा। मुझे याद आया कि वह फोटो तब खींची गई थी, जब मैं डार्क असैसन वेबसाइट पर गया था। उसके नीचे लिखा था “उम्मीद करता हूँ कि तुम्हें हमारा काम पसंद आया होगा। हम तुमसे तुम्हारी कीमती चीज नहीं ले रहें। क्योंकि हमें तुम्हारी बिल्ली पसंद नहीं है। अगर फिर से ऐसा अनुभव करना चाहो, तो डार्क असैसन वेबसाइट पर जरूर विज़िट करना। पर ध्यान रहे तुम्हें एक बार दिल का दौरा पड़ चुका है। तो क्या मेरे साथ घटी वह घटना कोई सपना नहीं था?”

***

Ritu Raj

मेरा नाम ॠतु राज है और मैं आपका Magical Hindi Stories में स्वागत करता हूँ। मेरी कोशिश आप सभी पाठकों तक ऐसी नई और रोचक हिंदी कहानियाँ पहुँचाने की है, जिन्हें आप अवश्य पढ़ना चाहेंगे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: