Tagged: magic stories

1

7. जूलियट से मुलाकात

वह सुबह का वक्त था, परंतु अभी रोशनी नहीं हुई थी। मैंने मिस स्काइ को घर के तहखाने में जाते देखा। मैं भी चुपचाप उनके पीछे चल पड़ा। मैं देखना चाहता था कि इतनी...

0

6. युद्ध की तैयारी

उस रात मिस स्काइ के घर में बैठक शुरू हुई। बैठक में सिर्फ मिस्टर बर्गर बेस्ट और उनके कुछ सैनिक ही शामिल थें। सब की निगाहें मिस स्काइ पर टिकी थीं। और फिर मिस्टर...

0

5. गौड्रिल का लौटना

उस वक्त रात के तकरीबन दो बज रहे होंगे, जब नेमो भयानक तरीके से चिल्लाई। मैं सोया नहीं था। इसलिए मैं सबसे पहले तहखाने की छत के बीच से होते हुए उसके पास पहुँचा।...

0

रेप्लेह सन्नातास (Repleh Snatas)

अगर आप रेप्लेह सन्नातास के बारे में नहीं जानते हैं, तब तो आपको यह आर्टिकल जरूर पढ़ना चाहिए। यह घटना 18 वीं सदी की है। एक औरत लगभग 4-5 गर्भपात के बाद एक बच्ची...

0

जिन्न से मुलाकात

उन दिनों गरमी का मौसम था और रात में हम सब परिवार छत पर चाँद-तारों के नीचे सोया करते थें। जब आसमान से होती हुई ओस की बूंदे मेरे गद्दे पर पड़ती और रात...

0

4. आयामों की रेखा और नौ दुनिया

नेमो हमें उस कमरे में ले गई जो पूरी तरह से खाली था। मैं यहाँ पहले भी आ चुका था। यह वही कमरा था जिसमें दो त्रिकोण खिड़कियाँ थीं। बाहर घना अंधेरा था और...

0

सर्बिया का किसिल्जेवो गाँव

किसिल्जेवो उत्तर-पूर्वी सर्बिया का एक छोटा सा गाँव है। यहाँ तकरीबन 700 से 750 लोग रहते हैं। यह छोटा सा गाँव वैसे तो देखने में बेहद शांत नजर आता है। मगर इसके किस्से दुनिया...

0

गेस्ट हाउस

मैं अक्सर भूतों, प्रेतों और चुड़ैलों का मज़ाक उड़ाया करता था। जब भी ऐसी कोई बात छिड़ती, तो मैं जाने-अनजाने में कुछ ऐसा कह जाता, जो शायद मुझे नहीं कहना चाहिए। मेरे लिए तो...

0

दैत्य का जहाज

पानी के बड़े जहाज़ में घूमने के नाम से ही लोगों का रोमांच बढ़ जाता है। खासकर मेरे जैसे लोगों का, जिन्हें रोमांच और ख़तरों से प्यार होता है। इसलिए ही तो मैं अपनी...

0

3. सात महत्वपूर्ण अतिथि

मेरे दिखाई देने की वजह से मैं बहुत खुश था और शोभा भी। अब कौशल भी मुझे देखकर नहीं रो रहा था। हाँ अभी उसे अपने गोद में उठाने की मेरी इच्छा अधूरी थी।...

4

डार्क वेब और बेला इसौन

उन दिनों मैं अपने फ्लैट में अकेले रहा करता था। शाम को आँफिस से लौटने के बाद टीवी या लैपटाँप मेरे साथी बन जाया करते थें। वह शुक्रवार का दिन था और अगले दिन...

0

2. मैं फिर से दिखने लगा

हम अब भी उस कमरे में मौन खड़े थे। वह दो पैरों पर चलने वाली मोमबत्ती बोलना भी जानती थी और कहना मानना भी। उसका कद 3 फूट होगा। उसकी आवाज़ पतली और सुरीली...

0

अलविदा एमा

कहते हैं कि किसी वस्तु के प्रति आकर्षण अच्छी बात है, पर जब वह वस्तु शापित हो तब वही आकर्षण चिंता, दुखों और डरावनी रहस्यमयी घटनाओं का कारण बन जाती है। ऐसी ही एक...

0

डायन की कुटिया

एक समय की बात है, एक छोटे से गाँव में एक किसान रहा करता था। उसका नाम बाला था। उसके परिवार में कुल चार लोग थें। बाला स्वयं, उसकी पत्नी और दो बच्चे। जिनका...